आईपीओ में निवेश करने से पहले इन बातों का रखें ध्यान, नहीं तो उठाना पड़ सकता है नुकसान


Investment In IPO: इस साल कई बड़ी कंपनियां अपने IPO ला रही हैं. कोरोना की दूसरी लहर के बाद आईपीओ बजार में बड़ा उछाल देखा गया है. आप अगर IPOमें पैसा लगाने का मन बना रहे हैं तो आपको इन बातों को जरूर ध्यान रखना चाहिए.

रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस

  • IPO में पैसा लगाने से पहले ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस जरूर देखें.
  • कंपनी शेयर बेचकर फंड जुटाने से पहले सेबी को ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (DRHP) दायर करती है.
  • इससे पता चलता है कि कंपनी जुटाए गए फंड का इस्तेमाल कहां करेगी.
  • इसमें निवेशकों के लिए संभावित रिस्क की भी जानकारी मिलती है.

फंड का इस्तेमाल

  • कंपनी IPO से जुटाए पैसे का इस्तेमाल कहां और कैसे करने वाली है, यह जानना जरूरी है.
  • निवेशक के लिए वह कंपनी अच्छी है जो यह कहे कि पैसे का इस्तेमाल आंशिक रूप से कर्ज चुकाने और बिजनेस को बढ़ाने या फिर सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों के लिए करना है.

कंपनी के बिजनेस को समझे

  • आईपीओ में पैसा लगाने से पहले कंपनी के बिजनेस को जरूर समझें.
  • उसी कंपनी में निवेश करें जिसका का कारोबार बाजार में अच्छा चल रहा हो.
  • जिस कंपना का कारोबार अच्छा नहीं चल रहा उसमें निवेश न करें.
  • कंपनी की बिजनेस क्षमता का विशेलेषण करें.
  • कंपनी के पास एक अच्छा बिजनेस मॉडल होना चाहिए.
  • DRHP से कंपनी की स्ट्रेंथ और स्ट्रेटजी के बारे में पता लगाया जा सकता है.
  • पिछले सालों में कंपनी का प्रदर्शन कैसा रहा है ये पता करें. कंपनी को कितना फायदा या घाटा हुआ है. अगर कंपनी के मुनाफे और आय में बढ़ोतरी हुई है तो निवेश जरूर करें.

कंपनी से जुड़े लोगों की जानकारी हासिल करें

  • निवेश करने से पहले कंपनी के प्रोमोटर्स और मैनेजमेंट टीम के बारे में जरूर जानकारी हासिल करें.
  • कंपनी को आगे बढ़ाने में कंपनी के प्रमोटर्स और मैनेजमेंट जिम्मेदार होते हैं. इनकी कंपनी के सभी कामों में अहम भूमिका होती है.

निवेश को लेकर रहें स्प्ष्ट

  • यह तय करें कि आप लिस्टिंग गैन के लिए IPO में पैसा लगा रहे हैं या फिर लॉन्ग टर्म निवेश के लिए।
  • लिस्टिंग गैन बाजार के मूड पर निर्भर करता है.
  • लॉन्ग टर्म निवेश कंपनी की ग्रोथ और काम पर निर्भर करता है.

यह भी पढ़ें: 

PPF Account: मैच्योरिटी पीरियड के बाद भी जारी रखा जा सकता है PPF खाता, जानें क्या हैं नियम

ADB बैंक ने भारत की आर्थिक वृद्धि के अनुमान को घटाकर 10 प्रतिशत किया, कोरोना बनी वजह



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *