लगातार बढ़ रहे हैं अंडे और चिकन के दाम, जारी रह सकता है महंगा होने का सिलसिला


अंडे और चिकन के दाम लगातर बढ़ रहे है और कम होने की अभी कोई उम्मीद नहीं है। जो चिकन 130-140 रुपए किलो मिलता था वो अब 260 से 280 हो गया है, वही अंडा भी 5 रुपए से बढ़कर 7 रुपए तक पहुंच गया है।

नई दिल्ली। अंडे और चिकन के दाम लोगों का बजट बिगाड़ रहे हैं। पहले कोरोना महामारी ने रुलाया था उसके बाद अचानक से बढ़ी महंगाई ने आम आदमी का सारा बजट बिगाड़ के रख दिया। लगातार बढ़ रहे दाम कम होने का नाम नहीं ले रहे। दाल, सब्जी या पेट्रोल कहीं भी राहत नहीं है। सब अपना महंगाई का रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं। अब शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाने वाले अंडे और चिकन भी खूब महंगे हो गए हैं। पोल्ट्री उत्पादों की लागत भी 50 से 60 प्रतिशत तक बढ़ गई है।

कितने बढ़े है दाम?

कोराना महामारी में बर्ड फ्लू का खतरा भी खूब बना हुआ था जिससे पोल्ट्री उद्योग बुरी तरह प्रभावित हुआ। लोगो को अंडे कचरे में फेंकने पड़े। उस समय पोल्ट्री उद्योग को बिल्कुल भी सही दाम नहीं मिल रहे थे। अंडे और चिकन के दाम एकदम से गिर गए थे। लेकिन जैसे ही लॉकडाउन खत्म हुआ पूरे देश में अंडे व चिकन की मांग में काफी बढ़ोतरी हुई।

जब कोरोना की दूसरी लहर थी, चिकन 130 से 140 रुपए किलो में बिक रहा था। अब बढ़कर 260 से 280 तक पहुंच गया है। यानी अचानक से कीमत दोगुनी हो गई। वही, अंडों कि बात करे तो इसने भी अपनी कीमत से चौंका दिया है। इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं की एक महीने पहले के भीतर 5 रुपए में मिलने वाला अंडा 7 रुपए में मिलने लगा है।

इसलिए बढ़ रहे है अंडों और चिकन के दाम

अंडों और चिकन के दाम बढ़ने के कई कारण है, जिससे इनकी कीमत में लगातार बढ़ोतरी हो रही हैः

  • जैसे की लॉकडाउन के बाद जब होटल और रेस्टोरेंट खुलने लगे तो अंडों व चिकन की मांग अचानक से बढ़ गई जिससे इनकी कीमत में भी उछाल आया।
  • दूसरा कारण कोरोना काल में पोल्ट्री उद्योग को हुआ घाटा है जिससे कि ये उद्योग काफी घाटे में चल रहे हैं और कुछ उद्योगों ने लोन लेकर चालू किया था। वे लोग लोन चुकाने में असमर्थ हैं, जिससे उनको अपना नुकसान कम करने के लिए दाम बढ़ाने पड़ रहे हैं।
  • तीसरा कारण इसका पोल्ट्री उद्योग में लगने वाला कच्चा माल है और उद्योग के चलाने के लिए काम आने वाले संसाधन हैं जो काफी महंगे हो गए हैं।
  • चोथा कोरोना के बाद इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए डॉक्टर अंडे व चिकन खाने को कह रहे है जिससे इनका उपभोग बढ़ रहा है।

कम होने की कोई उम्मीद नहीं है

अंडों ओर चिकन के दाम में हुई बढ़ोतरी अभी कम होने की और नहीं है बल्कि इनके दाम अभी और बढ़ सकते है। इसलिए अब महंगाई कि मार हर छोर पर झेलनी पड़ेगी।













Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *