छोटे से देश का बड़ा कदम: 2 लाख की आबादी वाले देश की पहली महिला प्रधानमंत्री बंद करेंगी चीन के सभी प्रोजेक्ट


  • Hindi News
  • International
  • The First Female Prime Minister Of The Country With A Population Of 2 Lakhs Will Stop All The Projects Of China

एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

समोआ के पास यह हौंसला उसकी पहली महिला प्रधानमंत्री नाओमी मटाफा के कारण आया है।

चीन दुनिया के छोटे और गरीब देशों को कर्ज के जाल में फंसाकर अपने प्रोजेक्ट चला रहा है। लेकिन दो लाख की आबादी वाला देश समोआ ड्रैगन के सभी प्रोजेक्ट्स बंद करने की तैयारी में है। समोआ के पास यह हौंसला उसकी पहली महिला प्रधानमंत्री नाओमी मटाफा के कारण आया है। दरअसल, नाओमी दो महीने पहले समोआ की पीएम चुनी गई हैं।

नाओमी चीन की कर्ज नीति को लेकर गंभीर है। उनकी सरकार समोआ में चीन की फंडिंग से चल रहे इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स की समीक्षा कर रही है। नाओमी का कहना है- ‘अगर ये प्रोजेक्ट्स आर्थिक नीति पर खरे नहीं उतरे तो इन्हें रद्द कर दिया जाएगा। इन प्रोजेक्ट्स के कारण समोआ पर भारी कर्ज बढ़ गया है।

सरकार खासतौर पर समोआ में चीन के कर्ज से चल रहे बंदरगाह प्रोजेक्ट को लेकर चिंतित है। इसकी लागत 743 करोड़ रुपए है। सरकार ने इसे खत्म करने की योजना बनाई है।’ समोआ ओशियाना द्वीप समूह का देश है। इसकी आबादी 2,02,600 है। इसका क्षेत्रफल 2,842 वर्ग किमी है। भारत में इस आकार के कई छोटे जिले हैं। मालूम हो कि 15 दिसंबर 1976 को संयुक्त राष्ट्र ने इस छोटे से देश को संयुक्त राष्ट्र संघ में शामिल किया था।

1959 में न्यूजीलैंड से आजाद हुआ था समोआ
समोआ 1959 में न्यूजीलैंड से आजाद हुआ था। तब से अब तक कई प्रधानमंत्री बने, लेकिन इनमें कोई महिला नहीं थी। देश की पहली महिला पीएम नाओमी फास्ट पार्टी की नेता हैं। वह देश में कैबिनेट मंत्री और उपप्रधानमंत्री बनने वाली भी पहली ही महिला हैं। खास बात यह है कि समोआ में पीएम नाओमी को बड़ी राजनीतिक ताकत के तौर पर देखा जा रहा है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *